मध्यप्रदेश २०१९ चुनाव शेड्यूल और रिजल्ट

एग्जिट पोल अपडेट

एग्जिट पोल के हिसाब से भले ही कोंग्रेस ने जनता को विधानसभा चुनावों में अपने पक्ष में किया हो लेकिन लोकसभा के चुनावों के लिए नरेन्द्र मोदी ही पहली पसंद दिख रहे हैं. पिछली बार की तरह इस बार भी एमपी का वोट बीजेपी की झोली में जाता हुआ ही दिख रहा हैं. सीटों के लिहाज से बात करें तो बीजेपी यहाँ से २६ से २८ सिट तक निकाल सकती हैं. जब की कोंग्रेस के खाते में १ से ले के ३ सीटें आ सकती हैं.

फिलहाल मुरैना और गुना सिट के ऊपर बीजेपी और कोंगर्स के बिच में कांटे की टक्कर दिख रही हैं. कमलनाथ का गढ़ छिंदवाडा ही एक ऐसी सिट हैं जिसके ऊपर कोंग्रेस को सुनिश्चित जित मिलने के आसार हैं. इसका मतलब ये भी हैं की साधू, धूनी और हिंदुत्व का केंद्र बनी एमपी की भोपाल सिट जो परंपरागत तौर पर बीजेपी का गढ़ हैं उसमे वरिष्ठ कोंग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह सेंघ नहीं लगा सके!

सिट पार्टी
सीधी बीजेपी
शहडोल बीजेपी
जबलपुर बीजेपी
मंडला बीजेपी
बालाघाट बीजेपी
छिंदवाड़ा कोंग्रेस
टीकमगढ़ बीजेपी
दमोह बीजेपी
खजुराहो बीजेपी
सतना बीजेपी
रीवा बीजेपी
होशंगाबाद बीजेपी
बेतूल बीजेपी
मुरैना बीजेपी और कोंग्रेस के बिच में कड़ी टक्कर
भिंड बीजेपी
गुना बीजेपी और कोंग्रेस के बिच में कड़ी टक्कर
विदिशा बीजेपी
राजगढ़ बीजेपी
सागर बीजेपी
ग्वालियर बीजेपी
भोपाल बीजेपी
देवास बीजेपी
उज्जैन बीजेपी
मंदसौर बीजेपी
खरगौन बीजेपी
खंडवा बीजेपी
रतलाम बीजेपी
धार बीजेपी
इंदौर बीजेपी

२०१९ एमपी चुनाव शेड्यूल

फेज सीटें मतदान की तारीख
सीधी, शहडोल, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, छिंदवाड़ा २९ अप्रेल
टीकमगढ़, दमोह, खजुराहो, सतना, रीवा, होशंगाबाद, बेतूल ६ मई
मुरैना, भिंड, गुना, विदिशा, राजगढ़, सागर, ग्वालियर, भोपाल १२ मई
देवास, उज्जैन, मंदसौर, खरगौन, खंडवा, रतलाम, धार, इंदौर १९ मई

पिछले साल २०१८ में भारतीय जनता पार्टी ने हिंदी बेल्ट के राज्य मध्यप्रदेश में सत्ता महज कुछ सीटों की वजह से गवां दी. १५ साल से वहां बीजेपी का चीफ मिनिस्टर था और इस लिहाज से एंटीइनकमबंसी फेक्टर का इतना प्रभाव हुआ नहीं. यही वजह हैं की भारतीय जनता पार्टी २०१९ के लोकसभा चुनावों में २०१४ के जैसे ही प्रदर्शन की उम्मीदें लगाए हुई हैं. दूसरी तरफ कोंग्रेस विधानसभा के चुनावी नतीजों से गद्गगद हैं और उसे लगता हैं की एमपी में उसकी पकड भी २०१४ के चुनावों के मुकाबले खासी हद तक बहतर होगी.

मध्यप्रदेश २०१४ चुनाव रिजल्ट

२०१४ के चुनावों का रिजल्ट देखें तो बीजेपी के लिए एक तरफ़ा क्लीन स्वीप था. राज्य की २९ में से सिर्फ दो सिट पर कोंग्रेस को जित मिली थी. (छिंदवाड़ा और गुना). हालांकि रतलाम के सांसद की मौत की वजह से हुए मध्यस्त्री चुनाव में कोंग्रेस ने एक और सिट अपने नाम कर ली थी. लेकिन आज की हालियाँ स्थिति में कुल २९ सिट में से २६ सिट पर बीजेपी के सांसद हैं. २०१४ में सांसदों का लिस्ट कुछ इस प्रकार था:

सिट जितनेवाले कैंडिडेट पार्टी
सीधी रीती पाठक बीजेपी
शहडोल दलपतसिंह परास्ते बीजेपी
जबलपुर राकेश सिंह बीजेपी
मंडला फग्गनसिंह कुलास्ते बीजेपी
बालाघाट बोध सिंह भागत बीजेपी
छिंदवाड़ा कमल नाथ कोंग्रेस
टीकमगढ़ वीरेंदर कुमार बीजेपी
दमोह प्रहलादसिंह पटेल बीजेपी
खजुराहो नागेन्द्र सिंह बीजेपी
सतना गणेश सिंह बीजेपी
रीवा जनार्दन मिश्रा बीजेपी
होशंगाबाद उदय प्रताप सिंह बीजेपी
बेतूल ज्योति धुर्वे बीजेपी
मुरैना अनूप मिश्रा बीजेपी
भिंड भगीरथ प्रसाद बीजेपी
गुना ज्योतिरादित्य सिंदिया कोंग्रेस
विदिशा सुषमा स्वराज बीजेपी
राजगढ़ रोदमल नागर बीजेपी
सागर लक्ष्मीनारायण यादव बीजेपी
ग्वालियर नरेन्द्रसिंह तोमर बीजेपी
भोपाल आलोक संजर बीजेपी
देवास मनोहर ऊँटवाल बीजेपी
उज्जैन चिंतामणि मालवीय बीजेपी
मंदसौर सुधीर गुप्ता बीजेपी
खरगौन सुभाष पटेल बीजेपी
खंडवा नन्दकुमार सिंह चौहान बीजेपी
रतलाम दिलीप सिंह भूरिया बीजेपी
धार सावित्री ठाकुर बीजेपी
इंदौर सुमित्रा महाजन बीजेपी

२०१९ एमपी चुनाव शेड्यूल

फेज सीटें मतदान की तारीख
सीधी, शहडोल, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, छिंदवाड़ा २९ अप्रेल
टीकमगढ़, दमोह, खजुराहो, सतना, रीवा, होशंगाबाद, बेतूल ६ मई
मुरैना, भिंड, गुना, विदिशा, राजगढ़, सागर, ग्वालियर, भोपाल १२ मई
देवास, उज्जैन, मंदसौर, खरगौन, खंडवा, रतलाम, धार, इंदौर १९ मई

मध्य प्रदेश क २०१९ चुनाव हाई वोल्टेज ड्रामा होने की उम्मीदे भी हैं. क्यूंकि यही से इस पुरे २०१९ लोकसभा चुनावों के सब से कंट्रोवर्सीयल कैंडिडेट साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का चयन होगा या नहीं ये साफ़ होगा. साध्वी प्रज्ञा ठाकुर देशद्रोह और आतंकवाद की धाराओं में एनआईए की कोर्ट से जमानत पर हैं. और उन्हें भारतीय जनता पार्टी ने भोपाल सिट के लिए टिकिट दी हैं. भोपाल में उनका मुकाबला सीधे कोंग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के सामने होगा.

वैसे दिलचस्पी इस बात को ले के हैं क्यूंकि दिग्विजय सिंह हमेशा हिन्दू आतंकवाद के कड़े आलोचक रहे हैं और प्रज्ञा ठाकुर के साथ उनके वैचारिक मदभेद भी हैं. प्रज्ञा ठाकुर के विवादित बयानों से बीजेपी ने तो पल्ला झाड़ा जिसमे उन्होंने कहा था की मुंबई एटीएस की मृत्युं उनके लगाए हुए सुतक से हुआ था. आप को बता दें की हेमंत करकरे २६/११ के आतंकवादी हमले में पाकिस्तानी शहीदों द्वारा शहीद किये गए थे.

तो चलिए देखते हैं की जनता के मन में क्या हैं! २३ मई को इसी पेज के ऊपर आप मध्यप्रदेश की सभी सीटों के चुनावी रिजल्ट को देख सकोगे. तो अभी से इस पेज को बुकमार्क करें अपनी एरिया की लेटेस्ट चुनावी अपडेट के लिए.

अपडेट:

अभी तक मध्यप्रदेश की १३ सीटों पर मतदान हो चूका हैं. और आगे छठे और सातवें चरण में बाकी का मतदान होगा. पांचवे फेज में औसतन ६७.०९% मतदान हुआ. छठे फेज में मध्य प्रदेश में औसतन ६२.६०% मतदान हुआ हैं. छठे फेज में कम मतदान एनडी के लिए परेशानी का सबब बनता  दिख रहा हैं क्यूंकि विधानसभा में भी कम मतदान ही एक बड़ी वजह रही थी बीजेपी के हारने की नोटा के साथ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *