“शिवराज सिंह चौहान जूठे हैं!”

जी हाँ कुछ ऐसा ही कहा कोंग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पिछले एक दो साल से जिन्होंने परिपक्वता दिखाई हैं अपनी रेलियों में और भाषणों में! राहुल गांधी की मध्य प्रदेश में हुई एक रेली का ट्विटर वीडियो देखें निचे पहले तो आप.

लोकसभा चुनावों के सातवें चरण के लिए अपने कैंडिडेट के प्रचार के लिए एमपी के उज्जेन में हुई रेलीक a ये वीडियो हैं. और इस वीडियो में आप राहुल गांधी को राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ऊपर शाब्दिक प्रहार करते हुए देख सकते हैं. राहुल गांधी ने दरअसल शिवराज सिंह के उस दावे को पूरी तरह से खारिज किया जो राज्य के किसानों की कर्जा माफ़ी से जुड़ा हुआ हैं. शायद आप ने भी कहीं सोशल मिडिया में पढ़ा हो की मध्यप्रदेश और राजस्थान में कोई कर्जा माफ़ नहीं किया और जनता को चुनावी लोलीपोप दे के बेवकूफ बनाया.

शिवराज सिंह चौहान ने भी कुछ ऐसा ही हमला पिछले कुछ दिनों से बोला मध्यप्रदेश की कोंग्रेस सरकार के ऊपर. लेकिन शायद वो जल्दबाजी में अपने घर में ही चेक करना भूल गए. कोंग्रेस ने भी आक्रमक मूड दिखाते हुए शिवराज सिंह की टांग खींचने का ये मौका नहीं छोड़ा.

पहले तो कमलनाथ ने क्या किया की शिवराज सिंह चौहान के घर वो २१ लाख लोगों की सूचि के साथ अपने नेताओं को भेजा. इस सूचि में वो किसानो के नाम थे जिनका कर्जा २०१८ के इलेक्शन के रिजल्ट के बाद कोंग्रेस ने माफ़ कर दिया.

और यही सूचि में कुछ नाम शिवराज सिंह चौहान की परेशानी का सबब भी बने. आप ऊपर के वीडियो में राहुल गांधी और कमलनाथ में दो व्यक्ति के नाम बोलते सुनेंगे. पहला हैं रोहित सिंह और दूसरा हैं निरंजनसिंह, ये दोनों ही शिव्रराज सिंह के गाँव गैर से हैं. और कोंग्रेस की सूचि के मुताबिक़ दोनों की बेंक लोन एनपीए थी और उनका कर्जा माफ़ किया गया.

सच में शिवराज सिंह चौहान के लिए ये बात बड़ी फजीहत का कारण बनी. पहले तो ये की आप राज्य के मुख्यमंत्री हो और आप के ही भाई भतीजे के लोन पेंडिंग हो और वो एनपीए में तब्दील हो जाए. दूसरा आप आप के धुर विरोधी के ऊपर निशाना चलायें और वो तीर आप के ऊपर ही वापस आ जाए.

कोंग्रेस ने समयसचुकता से दो बार शिवराज सिंह को क्लीन बोल्ड किया. पहले तो वो पूरी २१ लाख किसानो की सूचि को उनके घर भेज के. और दूसरी बार इस बात को पब्लिक कर के की खुद शिवराज सिंह के भाई और भतीजे के लोन को कोंग्रेस ने माफ़ किया हैं.

राहुल गांधी ने आगे ये भी कहा की हमने सभी के लोन माफ़ किये जिसमे शिवराज सिंह के भाई भतीजे भी हैं. और मोदी जी का ५६ इंच का सीना हैं तो कोंग्रेस का ५६ इंच का केवल दिल हैं.

अब शिवराज सिंह चौहान की  हालत ये हैं की ना निकाले बन रहा हैं ना निगले. लेकिन वो भी एक पिढ राजकारणी हैं, वापस आयेंगे तो जोर का आयेंगे. लेकिन अभी तो उनके पास से ये मौका २०१९ के लोकसभा चुनावों तक नहीं आएगा ऐसा लग रहा हैं!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *